दुनिया के पहले अंतरिक्ष मिशन अपोलो 11 को पूरे हुए 50 साल

अमेरिकी अंतरिक्ष यात्री नील आर्मस्ट्रॉन्ग 20 जुलाई, 1969 को चांद पर कदम रखने वाले दुनिया के पहले व्यक्ति बने थे। दुनिया के पहले अंतरिक्ष मिशन अपोलो 11 को पचास साल पूरे हो गए हैं। गुरुवार को इसी खास पल को सिएलट फ्लाइट म्यूजियम में रिक्रिएट किया गया चांद पर कदम रखने के बाद नील ने कुछ खास शब्द कहे थे। उन्होंने कहा था कि ये इंसान का एक छोटा सा कदम है और मानवता की लंबी छलांग है। अपोलो के कुल 11 मिशन हुए थे, जिसमें 33 अंतरिक्ष यात्री गए थे। जिनमें से 27 चांद तक पहुंचे। इनमें से 24 ने चांद का चक्कर लगाया था। लेकिन केवल 12 ही ऐसे थे, जिन्होंने चांद की सतह पर कदम रखा। इस खास और पहले अंतरिक्ष मिशन से चार लाख लोग जुड़े थे और इसे 53 करोड़ लोगों ने लाइव देखा था। ये मिशन दुनिया में अभी तक के चंद्रमा मिशन से पूरी तरह अलग है। अपोलो म्यूजियम के संरक्षक टीजेल म्यूर हार्मोनी का कहना है कि इस मिशन के सभी अंतरिक्ष यात्री साल 1930 में पैदा हुए थे। इन सभी को सैन्य ट्रेनिंग दी गई थी, सभी गोरे ईसाई थे और सभी पायलट थे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *