उत्तराखंड के वित्त मंत्री प्रकाश पंत का आकस्मिक निधन, अमेरिका में ली अंतिम सांस

उत्तराखंड के वित्त मंत्री प्रकाश पंत का आकस्मिक निधन हो गया है। वे लगभग 58 वर्ष के थे। कैंसर से पीड़ित होने पर अमेरिका में उनका इलाज चल रहा था। जैसे ही उनके निधन की सूचना आई तो उत्तराखंड में लोग स्तब्ध रह गए। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने कैबिनेट के सहयोगी पंत के निधन पर गहरा दुख जताया है। सरकार ने सभी सरकारी कार्यक्रम रद्द करते हुए राज्य में तीन दिन का राजकीय शोक घोषित कर दिया है। गुरुवार को राज्य के सभी सरकारी व गैर सरकारी दफ्तर भी बंद रहेंगे। प्रकाश पंत मूलरूप से चोढियार (गंगोलीहाट) पिथौरागढ़ के रहने वाले थे, लेकिन बाद में वे खड़कोट (पिथौरागढ़) में बस गए थे। फरवरी, 19 में बजट सत्र के दौरान अचानक भाषण देते वे बेहोश होकर गिर भी गए थे।  इसके बाद उन्होंने अपना चेकअप कराया था, लेकिन तब कोई गंभीर बीमारी का पता नहीं चल पाया था।  अब नही रहे उत्तराखंड के वित्त मंत्री प्रकाश पंत

स्वास्थ्य में सुधार न होने पर मार्च के अंतिम हफ्ते दून स्थित मैक्स हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। इसी दौरान पंत को कैंसर होने की पुष्टि हुई, लेकिन किसी को bl chekjh dk ikrkनहीं था कि कैंसर उनके शरीर में इतना फैल चुका है। इसके बाद उन्हें दिल्ली स्थित राजीव गांधी कैंसर इंस्टीट्यूट में भर्ती कराया गया था। वहां भी स्वास्थ्य में सुधार न होने पर बीती 29 मई को परिजन उन्हें इलाज के लिए अमेरिका ले गए।

बुधवार को पंत के निधन की सूचना मिलते ही उत्तराखंड में शोक छा गया। प्रकाश पंत मंत्री के रूप में सरकार में नंबर टू के पोजिशन पर थे। उनके निधन के शोक में  मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने गुरुवार को राज्य के सभी सरकारी और गैर सरकारी कार्यालयों में अवकाश घोषित कर दिया है।  

तीन दिन का राजकीय शोक घोषित
कैबिनेट मंत्री पंत ने निधन पर सरकार ने तीन दिन का राजकीय शोक घोषित कर दिया है। इसी दौरान सरकारी कार्यालयों में राष्ट्रीय ध्वज आधा झुका रहेगा और कोई उत्सव या सांस्कृतिक कार्यक्रम नहीं होंगे।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *