देहरादून की रिस्पना नदी को नया जीवन देगा यह बांध

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के ड्रीम प्रोजेक्ट सौंग बांध पेयजल परियोजना अब मरणासन्न स्थिति में पहुंच चुकी दून की रिस्पना नदी को जीवनदान देगा। टिहरी जिले की धनोल्टी विधानसभा में बनने वाले सौंग बांध से देहरादून जिले को 24 घंटे ग्रेविटी आधारित पेयजल उपलब्ध होगा। साथ ही बांध में अतिरिक्त पानी होने पर इसे दून की रिस्पना नदी में छोड़ा जाएगा। इस पहल से रिस्पना को नया जीवन मिलेगा।

देहरादून जिले की पेयजल समस्या के निदान के लिए प्रदेश सरकार ने महत्वाकांक्षी सौंग बांध पेयजल परियोजना की शुरुआत की है। 1100 करोड़ की लागत वाली इस योजना के लिए टेस्टिंग और सर्वे कार्य पूर्ण हो चुके हैं।

अब सौंग बांध दून की रिस्पना नदी को भी नवजीवन देगा। असल में सरकार ने रिस्पना के पुनरुद्धार के तहत रिस्पना से ऋषिपर्णा मुहिम शुरू की है। इस कड़ी में रिस्पना के दोनों तरफ बड़ी संख्या में जल संरक्षण में सहायक पौधों के रोपण के साथ ही इसके जलसमेट क्षेत्रों (कैचमेंट एरिया) के विकास पर फोकस किया गया है। इस पहल में सौंग बांध भी योगदान देने जा रहा है।

सिंचाई विभाग के मुख्य अभियंता पीसी गौड़ के अनुसार सौंग बांध परियोजना विशुद्ध रूप से देहरादून जिले में पेयजल आपूर्ति के लिए है, लेकिन बांध की झील में अतिरिक्त पानी होने पर इसके उपयोग को लेकर भी गहनता से विचार किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि सौंग बांध से अतिरिक्त पानी को रिस्पना नदी में छोड़ा जाएगा। इससे नदी भी जीवित हो जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *