देहरादून : डॉक्टरों की लापरवाही से एक महिला ने अस्पताल के गेट पर दिया बच्चे को जन्म

बालावाला निवासी प्रवीण राणा की पत्नी पुष्पा राणा को बुधवार करीब 11:30 बजे प्रसव पीड़ा हुई। निजी वाहन से परिजन उसे लेकर करीब 12:30 बजे दून महिला अस्पताल पहुंचे। लेकिन, वाहन से उतारते वक्त ही गेट पर ही उनकी डिलिवरी हो गई। गेट पर डिलिवरी होने से अस्पताल कर्मियों में अफरा-तफरी मच गई। महिला को नर्सिंग स्टाफ तुरंत लेबर रूम ले गया। चिकित्सा अधीक्षक टम्टा ने बताया कि महिला की यह तीसरी डिलिवरी थी। उसने स्वस्थ बेटे को जन्म दिया। इससे पहले उसकी दो बेटियां है। बताया कि वह प्रसव पीड़ा होने पर देरी से असपताल पहुंची थी। जिस वजह से उसकी डिलिवरी वाहन से उतारते वक्त हो गई। वहीं, महिला के परिजनों ने बताया कि आसपास कोई सुविधा नहीं है, जहां पर डिलिवरी करा सकें। उनके क्षेत्र में ऐसी व्यवस्था होनी चाहिए। ताकि लोगों को इस तरह की दिक्कतों का सामना न करना पड़े। वहीं, चिकित्सा अधीक्षक ने गर्भवतियों से अपील की है कि वह समय पर अस्पताल पहुंचें।

दून महिला अस्पताल पर दबाव कम करने के लिए डालनवाला स्थित गांधी शताब्दी नेत्र चिकित्सालय में ‘मातृ एवं शिशु देखभाल’ यूनिट शुरू की गई है। पर अस्पताल की ही महिला चिकित्सक सरकार की इस मंशा को पूरा नहीं होने दे रहीं हैं। हद देखिए, दोपहर 2 बजे के बाद यहां गर्भवती को भर्ती ही नहीं किया जा रहा। उन्हें दून महिला अस्पताल या अन्य अस्पताल में रेफर कर दिया जाता है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *