डीएम डा़ वी़ षणमुगम ने किया जिला अस्पताल का निरीक्षण

बौराड़ी जिला अस्पताल में मरीजों के साथ आए दिन हो रही नोंक-झोंक और अव्यवस्थाओं की सूचना पर डीएम डा़ वी़ षणमुगम ने अस्पताल का निरीक्षण किया। । अस्पताल की व्यवस्थायें न सुधरने पर डीएम ने शासन को पत्र लिखने की बात भी कही।अस्पताल में निरीक्षण में तमाम तरह की कमियां सामने आने पर डीएम ने सीएमएस डा़ यतेंद्र सिंह सहित हिमालयन अस्पताल प्रबंधन को आड़े हाथों लिया जिला अस्पताल में आ रही शिकायतों को लेकर डीएम षणमुगम ने अस्पताल का निरीक्षण किया। निरीक्षण में बंद पड़ी ओटी को डीएम ने खुलवाया। ओटी बंद होने पर डीएम ने नाराजगी जाहिर की। प्लास्टर रूम में जंक लगे औजार और अव्यवस्थित ट्रीटमेंट सामग्री पड़ी होने पर डीएम ने कहा कि इससे साफ जाहिर है कि अस्पताल में न तो पीपीपी मोड के तहत संचालित करने वाला संस्थान हिमालयन अस्पताल और नहीं यहां पर तैनात सरकारी डाक्टर अस्पताल की व्यवस्थाओं की ओर ध्यान दे रहे हैं। इसके बाद वैक्सीन रूम फंगसयुक्त होने पर भी डीएम ने सीएमएस सहित हिमालय अस्पताल प्रबंधन को आड़े हाथों लेते हुये कहा कि फंगसयुक्त रूम से यहां पर आने वाले मरीजों को इंफेक्शन होने की संभावायें होती है। एंटीफंगस ट्रीट न करने पर डीएम ने गहन नाराजगी जाहिर की। पांच साल के लिए अस्पताल को हिमालय अस्पताल जौलीग्रांट को पीपीपी मोड में दिया गया है। लेकिन अस्पताल अपनी सुविधा अनुसार डाक्टरों को एक-एक साल के अनुबंध पर लाया है। जिस पर डीएम ने निर्देश दिये कि डाक्टरों के अनुबंध पूरे पांच साल के करें। डाक्टरों को नियमित बिठाने के भी निर्देश दिये। अस्पताल में दर्जनों खामियों को पाने के बाद डीएम ने इन्हें तत्काल सुधारने के निर्देश दिये हैं। क्या कहते हैं डीएम डीएम डा़ वी़ षणमुगम का कहना है कि अस्पताल के निरीक्षण में तमाम खामियां सामने आई हैं। खामियों व व्यवस्थाओं को सुधारने के निर्देश दिये गये हैं। यदि अस्पताल की व्यवस्थाओं में सुधार न आया और साइन एमओयू के अनुरूप व्यवस्थायें नहीं की गई, तो वे इस बाबत शासन को पत्र लिखेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *