मरूभूमि से निकली क्रिकेट स्टार

हर तरफ क्रिकेट की धूम मची हुयी है ऐसे में क्रिकेट प्रेमियों को एक खुशखबरी मिल रही है। राजस्थान की मरूभूमि के चूरू जिले की सादुलपूर तहसील के जनाऊ खारी गांव की बेटी प्रिया पूनिया का महिला क्रिकेट की टी-20 विश्व कप की टीम में चयन हुआ है, जो राजस्थान ही नहीं पूरे देश के लिये गर्व की बात है। रेत के समंदर के मध्य छोटे से गांव जनाऊ खारी के रहनेवाले सुरेन्द्र पूनिया के घर 6 अगस्त, 1996 में जन्मी प्रिया पूनिया की इस
उपलब्धि पर सभी गर्व कर रहे हैं। प्रिया पूनिया का गत वर्ष भारतीय महिला टी-20 टीम में भी चयन हुआ था।
शुरू में सुरेन्द्र पूनिया ने प्रिया को जयपुर की सुराणा क्रिकेट एकेडमी में दाखिला दिलाया था। जयपुर में परिस्थितियां माकूल नहीं देखकर वह अपनी बेटी प्रिया को लेकर दिल्ली चले गए और खुद का भी वहीं स्थानांतरण करवा लिया। वहां वेस्ट दिल्ली द्वारका में प्रिया को क्रिकेट की प्रैक्टिस करवाई लेकिन सेंटर पिच पर प्रैक्टिस की डिमांड को देखते हुए सुरेन्द्र पूनिया वापस जयपुर आ गए। किराए पर सेंटर पिच पर प्रैक्टिस करवाना काफी महंगा पड़ता था। इस कारण सुरेन्द्र पूनिया ने 2015 में जयपुर में अपनी जमीन का कुछ हिस्सा बेचकर जयपुर में ही जमीन खरीद कर वहां खुद का ही क्रिकेट ग्राउंड तैयार करवाया। खुद के ग्राउंड पर सेंटर पिच तैयार करवाकर बेटी को प्रैक्टिस करवाना शुरू किया। उसके बाद प्रिया अब जब भी घर पर रहती है तो अपने पिता की बनाई पिच पर ही प्रैक्टिस करती है। उसी प्रैक्टिस का नतीजा है कि प्रिया आज अंतरराष्ट्रीय स्तर पर क्रिकेट खेल रही है।
राजस्थान के चूरू की 23 वर्ष की प्रिया पूनिया सलामी बल्लेबाज है और अब वल्र्ड कप में चैके-छक्के लगाने जा रही है। फरवरी 2019 में प्रिया ने न्यूजीलैण्ड में टी-20 मैच की सीरिज में भाग लिया था। प्रिया पूनिया राजस्थान की ऐसी पहली महिला खिलाड़ी हैं जिनका चयन भारतीय महिला टीम में हुआ है।
विराट कोहली को अपना आदर्श खिलाड़ी मानने वाली प्रिया का मानना है कि टीम इंडिया में ओपनर के रूप में हार्ड हिटर बैट्समैन की काफी आवश्यकता है और इसी को ध्यान में रखते हुए उसने मेहनत की है। इंडिया की महिला टीम ए के लिए खेल चुकी प्रिया पुनिया का कहना है कि राजस्थान में एक से बढकर एक महिला क्रिकेटर हैं लेकिन मौका नहीं मिलने के कारण उनकी खेल प्रतिभा निखर नहीं पाती है। यदि उन गुमनाम खिलाड़ियों को सही मौका व अपनी खेल प्रतिभा दिखाने का अवसर मिले तो देश को उनमें से कई बेस्ट प्लेयर मिल सकते हैं। मगर एक मौके के अभाव में उनकी प्रतिभा दब कर रह जाती है।
टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली के कोच राजकुमार शर्मा प्रिया पूनिया के भी कोच है। उन्होंने विश्वास जताया है कि प्रिया अपनी प्रतिभा का परिचय पहले दे चुकी है और वह आने वाले समय में देश के लिए बेहतरीन क्रिकेट का प्रदर्शन करेगी। प्रिया ने बेंगलुरू में सीनियर महिला वन डे चैंपियनशिप में दिल्ली का प्रतिनिधित्व करते हुए 8 मैचों में 50 की औसत से 407 रन बनाए थे। तमिलनाडु के खिलाफ 143 और गुजरात के खिलाफ 125 रन की शतकीय पारी खेलने के बाद प्रिया पूनिया को भारत की महिला टी20 टीम में शामिल किया गया था। प्रिया पूनिया अब तक दिल्ली से अंडर-19, अंडर-23 और सीनियर वर्ग की क्रिकेट खेल चुकी हैं। प्रिया ने दिल्ली के जीसस एंड मेरी कॉलेज से कॉमर्स में ग्रेजुएशन किया था और फिलहाल जयपुर में ही रहती हैं।
प्रिया के पिता सुरेन्द्र पूनिया का कहना है कि प्रिया को बचपन से ही पढ़ाई के साथ-साथ क्रिकेट के प्रति लगाव था। प्रिया के पिता सुरेन्द्र पूनिया जयपुर में सर्वे आफ इंडिया में हैड क्लर्क है। उनके परिवार में चाचा, ताऊ आज भी पैतृक गांव में रहते हैं। प्रिया के पिता ने बताया कि लगातार मेहनत के बाद प्रिया इस मौके के इंतजार में रहती थी कि अगर उसे बल्लेबाज बनने का मौका मिलेगा, तो अपनी तरफ से सर्वोत्तम करने की कोशिश करेगी। प्रिया की
उपलब्धि में माता सरोज पूनिया एवं भाई राहुल पूनिया की भूमिका महत्वपूर्ण रही।
प्रिया का भाई राहुल पूनिया भी क्रिकेट खेलता है तथा दोनों भाई-बहन पढ़ाई के साथ-साथ लगातार क्रिकेट का अभ्यास करते हैं। प्रिया पूनिया ने फरवरी 2019 में न्यूजीलैण्ड में टी-20 मैच में भाग लिया। इसके बाद प्रिया की प्रतिभा को देखते हुए उसका भारतीय महिला टी-20 विश्व कप के लिए चयन किया गया है। प्रिया तीन साल पहले भी इंडिया-ए की टीम में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेल चुकी है। प्रिया ने टीम के चयन के बाद इसका पूरा श्रेय अपने पिता को दिया है। (हिफी)

About Shashi bhushan Bhatt

View all posts by Shashi bhushan Bhatt →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *