कैंसर की पहली स्टेज में दिखने लग जाते हैं ये 8 बदलाव, जरूर जानें

कैंसर मनुष्य शरीर के लिए एक घातक बीमारी है। और आजकल बहुत से लोगों को कैंसर की बीमारी हो रही है। और भारत में कैंसर की वजह से बहुत से लोगों की मौत भी हो रही है। कैंसर की बीमारी की शुरुआत होने पर शरीर इसके संकेत बता देता है। इन संकेतों को पहचान लिया जाए तो इस बीमारी को कंट्रोल किया जा सकता है। लेकिन अगर इन संकेतों को नजरअंदाज कर दिया जाए तो इस बीमारी का इलाज संभव नहीं हो पाता है। और व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है।

आपने कई बार सुना होगा कि बड़े-बड़े फिल्मी सितारे या खिलाड़ी कैंसर की बीमारी होने पर विदेश जाकर इलाज करवाते हैं। और ठीक हो जाते हैं। लेकिन भारत में भी कैंसर का इलाज संभव है। और कैंसर का इलाज तभी संभव हो पाता है जब इस बीमारी का शुरुआत में पता लग जाता है। आज की पोस्ट में हम आपको कैंसर के शुरुआती लक्षण बताएंगे। आइए जान लेते हैं। कैंसर की पहली स्टेज में शरीर में दिखने लग जाते हैं ये 8 बदलाव, जरूर जानें।

कैंसर के शुरुआती लक्षण

1. अगर शरीर पर कोई चोट लगने से खून लगातार बहता रहता है तो यह कैंसर का लक्षण भी हो सकता है। इसके अलावा मलाशय के द्वार से खून निकलना कोलोन कैंसर की बीमारी का लक्षण हो सकता है।

2. दुनिया में 18% लोगों को शौच के समय, मल और आकार में बदलाव होने की वजह से कैंसर की बीमारी हो सकती है।

3. कैंसर की पहली स्टेज में शरीर का वजन तेजी से घटने लगता है। और 1 महीने में 4 से 5 किलो तक कम हो सकता है। अगर आपकी शरीर का वजन भी तेजी से कम हो रहा है तो डॉक्टर को दिखाएं।

4. कैंसर की पहली स्टेज में शरीर में छोटी-छोटी गांठें बनाना शुरू हो जाती हैं। जो धीरे-धीरे बढ़ा आकार ले लेती हैं। अगर आपके शरीर में भी कोई गांठ बन रही है तो तुरंत चेकअप करवाएं।

5. शरीर के किसी अंग में बिना चोट लगे ही अचानक से सूजन आना कैंसर की बीमारी का लक्षण हो सकता है। ऐसे में तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

6. उल्टी आना और उल्टी के साथ खून आना पेट के कैंसर के लक्षण हो सकते हैं। ऐसे में तुरंत डॉक्टर से जांच करवाएं।

7. आंखों की रोशनी में परिवर्तन होना और मस्तिष्क में अचानक से तेज दर्द होना दिमाग के कैंसर के लक्षण हो सकते हैं।

8. सांस लेने में तकलीफ होना और लंबे समय से खांसी और बलगम की शिकायत होना फेफड़ों में कैंसर की बीमारी के लक्षण हो सकते हैं। ऐसा होने से फेफड़ों में पर्याप्त ऑक्सीजन नहीं पहुंच पाती है। जिसकी वजह से व्यक्ति कई बार चक्कर आकर बेहोश हो जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *