पंद्रह साल से पुराने हो चुके वाहनों की ज्यादा फीस वसूलने की तैयारी

आमतौर पर लोग पुराना वाहन अपनी आर्थिक परिस्थिति, आवश्यकता और शौक को देखते हुए रखते हैं। लेकिन अब केंद्र सरकार पुराने वाहन रखने वालों को प्रदूषण के नाम पर बड़ा झटका देने जा रही है। अगर आप भी 15 साल से पुराना वाहन चला रहे हैं तो आपको इसके लिए भारी कीमत चुकानी पड़ सकती है। जी हां, इतने पुराने वाहनों की मेंटेनेंस और दोबारा रजिस्ट्रेशन पर 25 गुना तक ज्यादा दी जाने वाली फीस एक नए वाहन से भी ज्यादा महंगी पड़ सकती है।

सूत्रों के अनुसार, केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्रालय द्वारा प्रस्तावित वाहनों का “स्वैच्छिक स्क्रैपिंग ऑफर” अगर सरकार ने स्वीकार कर लिया तो आपके वाहन की निर्धारित आयु सीमा के बाद उसे पुनः पंजीकृत कराने के लिए आप को अपने वाहन हेतु निर्धारित शुल्क से 25 गुना तक ज्यादा दाम चुकाने होंगे।सड़क परिवहन मंत्रालय ने प्रस्ताव दिया है कि अब पुराने निजी वाहनों की दोबोरा रजिस्ट्री कराने की फीस में 25 फीसद की बढ़ोतरी की जाए। इतना ही नहीं, और पुराने कमर्शियल वाहनों की वार्षिक फिटनेस की फीस में 125 फीसद तक की वृद्धि की जा सकती है। ऐसे में सभी विभागों को मिनिस्ट्री ने इस बारे में नीतिगत दस्तावेज भेजकर उनकी राय मांगी है। बता दें कि सरकार अपने इस नियम को साल 2020 के मध्य से लागू कर सकती है। इसके अलावा सरकार ने स्क्रैपिंग के लिए अप्रूव्ड सेंटर्स बढ़ाने का लक्ष्य रखा है।

About Surkanda Samachar

View all posts by Surkanda Samachar →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *